50+ Radha Krishna Shayari in Hindi with Image – Krishna Shayari

Krishna Shayari – दोस्तों आज हम आपको श्रीकृष्ण भगवान की कुछ स्पेशल Krishna Shayari पढ़ाने जा रहे जो आपको बहाऊत ही ज्यादा पसंद आएगी क्योंकि इन सभी Krishna Shayari मे भगवान श्रीकृष्ण ने कुछ न कुछ जीवन के बारे मे जरूर ज्ञान दिया है।

इस लिए सब सब हिन्दुओ का कर्तव्य होगा की हम अपने प्रभु के द्वारा कही गई Krishna Shayari को पढे और फिर इन सभी Krishna Shayari Hindi से कुछ ज्ञान ले इस लिए आइए साथ मे पढे इन सभी Krishna Shayari को बिना किसी परेशानी।

 

Radha Krishna Shayari

अब आइए आपको हम यह स्पेशल Radha Krishna Shayari पढ़ाने जा रहे जिसे पढ़ने के बाद आपको बहुत अधिक ज्ञान मिलेगा जो आपके जीवन के लिए बहुत ही जरूरी होगा।

 

 श्री कृष्ण कहते है मनुष्य को जीवन में श्रेष्ट बनने का प्रयास आवश्य,

 करना चाहिए परन्तु जीवन में हमेशा उत्तम ही रहना चाहिए.,

 

अगर किसी को सदा सदा के लिए खोना नहीं चाहते,

तो समय समय पर उससे दूरी बनाए रखना आवश्यक होता है.,

 

अधूरी कहानी पर खामोश लबों का पहरा है,

चोट रूह की है इसलिए दर्द जरा गहरा है.,

 

प्रेम एक ऐसा अनुभव है जो मनुष्य को कभी परास्त नहीं होने,

देता और घृडा एक ऐसा अनुभव है जो मनुष्य को कभी जितने नहीं देता.,

 

न रास्तों ने साथ दिया, न मंजिल ने इंतज़ार किया में क्या लिखूं,

अपनी ज़िन्दगी पर मेरे साथ तो उम्मीदों ने भी मजाक किया.,

 

हे कान्हा फर्क बस इतना ही है हम दोनों की तन्हाई में,

तुम्हारे पास तो फिर भी तुम हो मेरे पास तो में भी नहीं हूँ.,

 

परमात्मा के बाद इस दुनिया में,

अगर कोई पवित्र चीज़ है तो वो है प्रेम.,

 

श्री कृष्ण कहते थे प्रेम का अर्थ किसीको,

पाना नहीं किन्तु उसमे खो जाना है.,

 

बड़ी बरकत है कान्हा तेरे इश्क़ में,

जब से हुआ है कोई दूसरा दर्द ही नहीं होता.,

 

जब मनुष्या को अपने धर्म पर अहंकार हो जाता है,

तब उसके हाथों अधर्म होने लगता है.,

 

बहुत खूबसूरत है मेरे ख्यालों की दुनिया,

बस कृष्ण से शुरू और कृष्ण पर ही ख़तम.,

 

जरुरी नहीं की हर रिश्ता बेवफाई से ही खत्म हो,

कुछ रिश्ते किसी की ख़ुशी के लिए खत्म करने पड़ते हैं.,

 

मुस्कुराने के मकसद न ढूँढो,

वर्ना जिन्दगी यूँ ही कट जाएगी,

कभी बेवजह भी मुस्कुरा के देखो,

आपके साथ साथ जिन्दगी भी मुस्कुरायेगी.,

 

अच्छे संस्कारों का निर्माण,

 किसी बाजार में नहीँ,

बल्कि,परिवार की देन से होते हैं.,

 

सब्र और सहनशीलता,

कोई कमजोरियां नहीं होती है,

ये तो वो अंदरुनी ताकते है,

जो केवल मजबूत लोगों में होती है.,

 

दिल के रिश्ते का कोई नाम नहीं होता,

हर रिश्ते का कोई मुकाम नहीं,

होता अगर निभाने की चाहता हो दोनों तरफ से तो,

कोई रिश्ता नाकाम नहीं होता.,

 

कैसे लफ्जों में बयां करू खूबसूरती तुम्हारी,

सुंदरता का दरिया भी तुम हो मेरे श्याम.,

 

रूप बड़ा प्यारा है चेहरा बड़ा निराला है बड़ी से,

बड़ी मुसीबत को कन्हैया ने पल भर में हल कर डाला है.,

 

गोकुल में है जिनका वास् , गोपियों संग करे निवास,

देवकी यशोदा है जिनकी मैया ऐसे है हमरे कृष्ण कन्हैया.,

 

krishna shayari

 

कृष्ण ने राधा से पूछा ऐसी एक जगह बताओ जहा में,

नहीं हूँ, राधा ने मुस्कुरा के कहा बस मेरे नसीब में.,

 

जो आसानी से मिल जाता है वो हमेशा तक नहीं रहता,

जो हमेशा तक रहता है वो आसानी से नहीं मिलता.,

 

जिस प्रकार दिल को धड़क्कन की ज़रूरत होती है,

ठीक इसी प्रकार मुझे तुम्हारी ज़रूरत है गोविन्द.,

 

प्रेम को भी खुद पर गुमान है क्योंकि,
राधा-कृष्ण का प्रेम हर दिल में विराजमान हैं.,

 

राधा को कन्हैया ने प्यार का पैगाम लिखा,
पूरे खत में सिर्फ़ राधा-राधा नाम लिखा.,

 

मधुवन में भले ही कान्हा किसी गोपी से मिले,
मन में तो राधा के ही प्रेम के है फूल खिले.,

 

“राधा” के सच्चे प्रेम का यह ईनाम हैं,
कान्हा से पहले लोग लेते राधा का नाम हैं.,

 

प्रेम की भाषा बड़ी आसान होती हैं,
राधा-कृष्ण की प्रेम कहानी ये पैगाम देती हैं.,

 

यदि प्रेम का मतलब सिर्फ पा लेना होता,
तो हर हृदय में राधा-कृष्ण का नाम नही होता.,

 

दरबार हजारों देखे है, पर ऐसा कोई दरबार नहीं,
जिस गुलशन में तेरा नूर न हो, ऐसा तो कोई गुलजार नहीं.,

 

जब प्रेम का सुरूर मेरे दिल पर छाता है,
मेरा हृदय चारों तरफ राधा-कृष्ण को ही पाता है.,

 

हे अर्जुन के सारथी मुझको भी ऐसा ज्ञान दो,
तेरे प्रेम की ज्योति को जलाये रखू, ऐसा बरदान दो.,

 

राधा के सच्चे प्रेम का यह इनाम है,

कान्हा से पहले लोग लेते राधा का नाम है.,

 

यदि प्रेम का मतलब सिर्फ पा लेना होता,

तो हर हृदय में राधा-कृष्ण का नाम नही होता.,

 

राधा कृष्ण का मिलन तो बस एक बहाना था,

दुनियाँ को प्यार का सही मतलब जो समझाना था.,

 

राधा के सच्चे प्रेम का यह ईनाम हैं,

कान्हा से पहले लोग लेते राधा का नाम हैं.,

 

कान्हा को राधा ने प्यार का पैगाम लिखा,

पुरे खत में सिर्फ कान्हा कान्हा नाम लिखा.,

 

प्रेम की भाषा बड़ी आसान होती हैं,

राधा-कृष्ण की प्रेम कहानी ये पैगाम देती हैं.,

 

कृष्ण की प्रेम बाँसुरिया सुन भई वो प्रेम दिवानी,

जब-जब कान्हा मुरली बजाएँ दौड़ी आये राधा रानी.,

 

कान्हा तुझे ख्वाबों में पाकर दिल खो ही जाता हैं,

खुदको जितना भी रोक लू, प्यार हो ही जाता हैं.,

 

हे कान्हा, तुम संग बीते वक़्त का मैं कोई हिसाब नहीं रखती,

मैं बस लम्हे जीती हूँ, इसके आगे कोई ख्वाब नहीं रखती.,

 

कर्तव्य पथ पर जाते-जाते केशव गये थे रूक,

देख दशा राधा रानी, ब्रम्हा भी गये थे झुक.,

 

अब तो आँखों से भी जलन होती हैं मुझे ए कान्हा,

खूकि हो तो तलाश तेरी और बंद हो तो ख्वाब तेरे.,

 

 कोई प्यार करे तो राधा-कृष्ण की तरह करे,

जो एक बार मिले, तो फिर कभी बिछड़े हीं नहीं.,

 

जब सुकून ना मिले दिखावे की बस्ती में,

तब खो जाना मेरे श्याम की मस्ती में.,

 

हर पल, हर दिन कहता हैं कान्हा का मन,

तू कर ले पल-पल राधा का सुमिरन.,

 

पर्दा ना कर पुजारी दिखने दे राधा प्यारी,

मेरे पास वक्त कम हैं, और बाते हैं ढेर सारी.,

 

krishna shayari

 

 पता नहीं मजाक था या प्यार का पैगाम लिखा था,

जब मैनें राधा और उसने श्याम लिखा था.,

 

 बहुत खूबसूरत है मेरेख्यालों की दुनिया,

बस कृष्ण से शुरू औरकृष्ण पर ही खत्म.,

 

मटकी तोड़े माखन खाए फिर भी सबके मन को भाये,

राधा के वो प्यारे मोहन महिमा उनकी दुनिया गाये.,

 

राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आएंगे,

एक बार आ गए तो कभी नहीं जायेंगे.,

 

सांवरे तेरी मोहब्बत को नया अंजाम देने की तैयारी हैं,

कल तक मीरा दीवानी थी आज मेरी बारी हैं.,

 

हर पल आंखों में पानी हैं क्योंकि चाहत में रुहानी हैं,

मैं हूँ तुझसे, तू हैं मुझसे, अपनी बस यही कहानी हैं.,

 

राधा-राधा जपने से हो जाएगा तेरा उद्धार,

क्योंकि यही वही वो नाम हैं जिससे कृष्ण को हैं प्यार.,

 

मधुवन में भले ही कान्हा किसी गोपी से मिले,

मन में तो राधा के ही प्रेम के हैं फूल खिले.,

 

दे के दर्शन कर दो पूरी प्रभु मेरे मन की तृष्णा,

कब तक तेरी राह निहारूं अब तो आओ कृष्णा.,

 

हे कान्हा !मैं कौन सा ऐसा कर्म करूं,

कि तेरे चरणों में जगह पा जाऊं,

मुझे रिश्तों की लम्बी कतारों से क्या मतलब,

कोई दिल से हो मेरा, तो एक कृष्ण ही काफ़ी हैं.,

 

 कृष्णा के कदमो पे कदम बढाते चलो,

अब मुरली नही तो सीटी बजाते चलो.,

 

पता नहीं मजाक था या प्यार का पैगाम लिखा था,

जब मैनें राधा और उसने श्याम लिखा था.,

 

गोपियाँ तो आज भी पट जाएँगी,

लेकिन मुझे अपनी रूठी हुयी राधा ही चाहिए.,

 

 कृष्ण की प्रेम बाँसुरिया सुन भई वो प्रेम दिवानी,

जब-जब कान्हा मुरली बजाएँ दौड़ी आये राधा रानी.,

 

ए जन्नत अपनी औकात में रहना,
हम तेरी जन्नत के मोहताज नही,
हम श्री बांकेबिहारी के चरणों में रहते है,
वहां तेरी भी कोई औकात नही.,

 

राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आएंगे,
एक बार आ गए तो कभी नहीं जायेंगे.,

 

कान्हा को राधा ने प्यार का पैगाम लिखा,
पूरे खत में सिर्फ कान्हा-कान्हा नाम लिखा.,

 

कोई प्यार करे तो राधा-कृष्ण की तरह करे,
जो एक बार मिले, तो फिर कभी बिछड़े हीं नहीं.,

 

राधा-राधा जपने से हो जाएगा तेरा उद्धार,
क्योंकि यही वो नाम है जिससे कृष्ण को प्यार.,

 

हर पल, हर दिन कहता है कान्हा का मन,
तू कर ले पल-पल राधा का सुमिरन.,

 

राधा कृष्ण का मिलन तो बस एक बहाना था,
दुनिया को प्यार का सही मतलब जो समझाना था.,

 

कृष्ण की प्रेम बाँसुरिया सुन भई वो प्रेम दिवानी,
जब-जब कान्हा मुरली बजाएँ दौड़ी आये राधा रानी.,

 

 

“राधा” के सच्चे प्रेम का यह ईनाम हैं,
कान्हा से पहले लोग लेते राधा का नाम हैं.,

 

यदि प्रेम का मतलब सिर्फ पा लेना होता,
तो हर हृदय में राधा-कृष्ण का नाम नही होता.,

 

राधा की कृपा, कृष्णा की कृपा, जिस पर हो जाए,
भगवान को पाए, मौज उड़ाए, सब सुख पाए.,

 

अधुरा हैं मेरा इश्क तेरे नाम के बिना,
जैसे अधूरी हैं राधा श्याम के बिना.,

 

राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आएंगे,
एक बार आ गए तो कभी नहीं जायेंगे.,

 

कान्हा को राधा ने प्यार का पैगाम लिखा,
पूरे खत में सिर्फ कान्हा-कान्हा नाम लिखा.,

 

राधा-राधा जपने से हो जाएगा तेरा उद्धार,
क्योंकि यही वो नाम है जिससे कृष्ण को प्यार.,

 

राधा कृष्ण का मिलन तो बस एक बहाना था,
दुनिया को प्यार का सही मतलब जो समझाना था.,

 

कृष्ण की प्रेम बाँसुरिया सुन भई वो प्रेम दिवानी,
जब-जब कान्हा मुरली बजाएँ दौड़ी आये राधा रानी.,

 

मधुवन में भले ही कान्हा किसी गोपी से मिले,
मन में तो राधा के ही प्रेम के हैं फूल खिले.,

 

यदि प्रेम का मतलब सिर्फ पा लेना होता,
तो हर हृदय में राधा-कृष्ण का नाम नही होता.,

 

सांवरे तेरी मोहब्बत को, नया अंजाम देने की तैयारी हैं,
कल तक मीरा दीवानी थी, आज मेरी बारी हैं.,

 

अधुरा हैं मेरा इश्क तेरे नाम के बिना,
जैसे अधूरी हैं राधा श्याम के बिना.,

 

इस पोस्ट में आपको हमने स्पेशल Krishna Shayari पढाई जो हम आशा करते की आपको बेहद पसंद आई होगी अगर हां तो आप अगली बार हमरी Hindi shayari की बाकि शयरी जरुर पढ़े.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *